30/7/09

हम एक राह के मुसाफिर है


कहीं अन्दर

बहुत अन्दर

खुद को तुझ में पाता हूँ

और तुम को खुद में

पर फिर भी जाने कौन सी

शीशे की दीवार है कहीं

कि न मैं तुम्हें छू पाता हूँ

और न तुम मुझे

हम एक ही राह के मुसाफिर है

पर एक राह के मुसाफिर

युगों-युगों से श्राप ग्रस्त है

कि वे एक दूसरे के साथ चलते हुए भी

एक दूसरे को नहीं पहचानते

क्योंकि उनकी नजरे एक दूसरे पर नहीं

दूर कही मंजिल पर होती है.

12 टिप्‍पणियां:

श्यामल सुमन ने कहा…

कम शब्दों में भावना की अच्छी अभिव्यक्ति।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

बेनामी ने कहा…

अच्छी कविता. मुझे ये लगता रहा है की हास्य-व्यंग्य के साथ कुछ इस तरह की कवितायेँ भी आप लिखें, शायद ये वक्त-बेवक्त संवेदनाओं को सहलाने के काम आती है.

ओम

Nirmla Kapila ने कहा…

ये समानान्तर रेखाओं का गणित कहीं जीवन से भी जुडा है बहुत सुन्दर लाजवाब अभिव्यक्ति है बधाई

Neelesh Jain, Mumbai ने कहा…

Paas ki dooriyan ...Achcha khyaal hai
aapka comment mila wo bhi achcha laga...likhate rahein...dikhatein rahein
aapka Neelesh

Neelesh Jain ने कहा…

Paas ki dooriyan ...Achcha khyaal hai
aapka comment mila wo bhi achcha laga...likhate rahein...dikhatein rahein
aapka Neelesh

adwet ने कहा…

bahut khoob likha apne. aapki lekhini ese naye aayam rache

रवीन्द्र प्रभात ने कहा…

संवेदनाओं की सुन्दर अभिव्यक्ति। लाजवाब कविता,बधाई !

Sudhakar ने कहा…

bahut hi badhia kavita hai. aap is tarah ki kavita bhi likhate hain aisa andaza nahi tha.

raj ने कहा…

khud ko khayale yaar me aise bhula diya..barso khayaale yaar hume dhundta raha...

raj ने कहा…

jab bhi main sochti hun ki sari duniya ko jaan gyee hun fir koee nye chehre nazar aate hai..to sochti hun abhi bahut kuchh janna baki hai...apka blog na jane kaise nahi jan payee thi abhi tak...

महावीर ने कहा…

भावों और शब्दों का सुन्दर सामंजस्य. बहुत सुन्दर.
महावीर

kashyaprohit9@gmail.com ने कहा…

bilkul sahi kaha har koi to is rah ke hi musaphir hai jo apne rashtaey par laagataar chalte rahte hai aur phir aachanak hi ruk jaate hai??????????